अल्फ़ाज़ दिल के

#रात हज़ारों तारें साथ होकर भी रात बेक़रार है कौन ये जाने उसको किसका इन्तज़ार है #टेढ़ा क्यों बुरा मानना रास्ता टेढ़ा है तो चलना सीख लेना...

गौहर

#इश्कगुनाह इरादा सही है तो इसका पनाह नहीं करो जितना चाहे इश्क गुनाह नहीं #कबतलक कब तलक सहते रहें? इसका जवाब कोई न जाने भुगतनी है सब कुछ...

 
Woman Writing